Wednesday, March 30, 2011

Ghazal from Shamim Jaipuri




कितनी राहत है दिल टूट जाने के बाद
ज़िंदगी से मिले मौत आने के बाद


लज़्ज़त-ए-सजदा-ए-सन्ग-ए-दर क्या कहें (उसकी चौखट पर सर झुकाने का मज़ा)
होश ही कब रहा सर झुकाने के बाद


क्या हुआ हर मसर्रर्त (खुशी) अगर छिन गई
आदमी बन गया गम उठाने के बाद


रात का माजरा किस से पूछें "शमीम"
क्या बनी बज़्म पर मेरे आने के बाद

The image is another ghazal by Shamim Jaipuri.

Edit: My apologies. Now that I read the ghazal fully (my speed is pathetic) the Shayar's name is Hasan. But it's a lovely ghazal so I am gonna leave the image unharmed.

Kabhi kitaabon mein phool rakhna kabhi darakhton pe naam likhna,
Hamein bhi hai yaad aaj tak wo nazar se harf-e-salaam likna.

No comments:

Google Web Search

You might also like

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...